[500+] Gussa Shayari in Hindi | गुस्सा शायरी इन हिंदी (2022)

If you are looking for Gussa Shayari in Hindi then you are landed in right place, in this post we have more than 500+ गुस्सा शायरी इन हिंदी Also, Gussa Wali Shayari, Itna Gussa Shayari, Bewajah Gussa Shayari, Love Gussa Shayari, Funny Gussa Shayari, Alone Gussa Shayari, Sad Gussa Shayari, Best Friend Se Gussa Shayar, Love Angry Shayari in Hindi.

Gussa Shayari in Hindi

Gussa Shayari in Hindi

ऊपर से गुस्सा दिल से प्यार करते हो,
नज़रें चुराते हो दिल बेक़रार करते हो,
लाख़ छुपाओ दुनिया से पर मुझे ख़बर है,
तुम ख़ुद से भी ज्यादा मुझे प्यार करते हो।

उसकी यही अदा मुझको बेहद भाती है,
नाराज़ वो मुझसे हो जाती है,
और गुस्सा सबको दिखाती है।

नाराज क्यूँ होते हो, किस बात पे हो रूठे,
अच्छा चलो ये माना, तुम सच्चे और हम झूठे,
कब तक छुपाओगे तुम हमसे हो प्यार करते,
गुस्से का है बहाना और दिल से हम पे हो मरते।

जिन्हें गुस्सा आता है, वो लोग सच्चे होते हैं,
मैंने झूठों को अक्सर मुस्कुराते हुए देखा है।

गुस्सा ना करो इतना कि वो शिकायत बन जाये,
रहो ना दूर इतना की हम अकेले हो जाये,
दुनिया का एक रिवाज हमे भी पता है,
प्यार ना करो किसी से इतना की वो जरुरत बन जाये।

Gussa Wali Shayari

Gussa Wali Shayari

प्यार इतना कि मुझे पाने को हर वक्त,
खुदा से इबादत किया करती थी,
और गुस्सा इतना कि मुझसे लिपटकर,
मेरी शिकायत किया करती थी।

बेपनाह मोहब्बत का एक ही उसूल है,
मिले या ना मिले, तू हर हाल मे कबूल है।

गुस्से में भी शब्दों का चुनाव ऐसा होना चाहिए,
की कल गुस्सा उतरे तो खुद की नजरों में शर्मिंदा ना होना पड़े।

प्यार लफ़्ज़ों में नहीं होता, दिल में होता है,
और गुस्सा दिल मे नहीं, लफ़्ज़ों में होता है।

साथ छोड़ना बहुत मुश्किल है,
तुझसे नाता तोड़ना बहुत मुश्किल है,
तू जान है मेरे दिल की,
तुझसे रूठ जाना बहुत मुश्किल है।

Itna Gussa Shayari

Gussa wali Shayari

मोहब्बत मे शक और गुस्सा वही करता है,
जो आपको खुद से भी ज्यादा प्यार करता है।

ना जाने क्यूँ नजर लगी जमाने की,
अब वजह भी मिलती नहीं मुस्कुराने की,
तुम्हारा गुस्सा होना तो जायज़ था,
लेकिन हमारी आदत छूट गई तुम्हे मनाने की।

खत्म हो नाराज़गी हम पर,
हो जाए प्यार की बारिश..
गुस्सा उतर जाए उनका,
करते हैं हम खुदा से ये गुजारिश।

बस यही सोचकर की, क्या कहेगा ये जमाना..
गुस्से को काबू में करके, पड़ता है मुझे मुस्कुराना..!

मुझे तेरे गुस्से से डर नहीं लगता,
तेरा गुस्सा तो मैं झेल लेती हूँ,
हाँ, दिल तो दुखता है बहुत तेरे गुस्से से,
लेकिन तुझे खोने के डर से चुप हो जाती हूँ।

Bewajah Gussa Shayari

Bewajah Gussa Shayari

गुस्सा बहुत आता है जब काबू में नहीं होता है,
जब नुकसान होता है तो दुख बहुत होता है।

तुम्हे गुस्सा करने का हक़ है मुझ पर नाराजगी में,
ये मत भूल जाना कि हम बहुत प्यार करते है तुमसे।

लड़ते है दोस्तों से पर जीतना नहीं चाहते,
दोस्तों से कभी बिछड़ना नहीं चाहते,
जानते है कि जुदा करेगी जिंदगी एक दिन हमें,
हकीकत में भी हम वह दिन कभी देखना नहीं चाहते।

कुछ पल का गुस्सा रोककर सब सही करना,
या कुछ पल के गुस्से के लिए,
सब ख़तम करना, यह सही नहीं।

दो-चार रोज को मौन भला, महीनों मातम में न बदल देना,
गले लगा लेना मुझको, या हो सके तो गला दबा देना मेरा।

Love Gussa Shayari

Love Gussa Shayari

गुस्से का, तुम देती
रहती हो हमेशा कोई सबब..
नाराजगी मिटाने का अब
करना पड़ेगा कोई करतब..

होते रहोगे तुम गुस्सा जब जब..
याद करोगे चाहत मेरी तब तब..

हर किसी पर खफा होते रहोगे
तो कैसे चलेगा साहब..
अगर रहोगे हमेशा गुस्सा तो
कैसे माफ़ करेगा मज़हब..

अब सितारों की रौशनी अच्छी नहीं लगती
तेरे बाद ये ज़िंदगी अच्छी नहीं लगती
गुस्से में वो मुझे छोड़ गई तन्हा
मुस्कुराना चाहुँ तो हँसी अच्छी नहीं लगती

Funny Gussa Shayari

Funny Gussa Shayari

गुस्से में बड़ी क्यूट लगते हो,
ये गलत फेमि है आपकी!!
आइने में देखो जाके एक बार,
तुम एक जंगली भूत लगते हो..!!

दिल की दीवार में नाम आपका है,
जाओ पहले रेहट पोहच कर आओ,
अंदर दिल के रहना आपको ही है,
इसमें नुख्सान आपका ही है..!!

टिड्डी सा इश्क तेरा,
मच्छर सा दिल है,
गुस्से से मुह है इतना फुलाया,
मुह है या बतख का घर है..!!

दो मिनट का मज़ा है प्यार में,
फिर वो होंगे गुस्सा,
फिर लुट जाना तुमारा संसार है..!!

तेरी नज़रे झुकी है,
कोई कमल किया है क्या..!!
मुह कु है टिंडे जेसा फुला,
फिर तुम्हे गुस्सा आया है क्या..!!

Alone Gussa Shayari

Alone Gussa Shayari

अकेले रहने दो यार मुझे,
तंग हो गया हु रोज़ गुस्सा होके..!!

मुह फुलाए रहना है अब अकेला,
क्युकी अब मुह देखने वाला साथ नहीं है..!!

सर पर गुस्सा है और दिमाग मेरा खाली है,
ना जाने किसकी लगी है नज़र,
पर में हुआ हु क्या नाकाम,
अब गुस्सा ही आता है अक्सर..!!

होता है क्या दर्द तुम्हे जब नाम मेरा आता है,
मुझे तो गुस्सा आता है जब भी नाम तुमारा आता है..!!

अजनबी हो गया हु शायद गुस्से में,
पर ये अकेलापन आदत बन गया है..!!

दिल की देहलीज़ पर जिसका नाम था,
गुस्से में अब वो मिल सा गया हैं..!!

रहने दो जेसा हूँ मुझे अकेला,
अब गुस्से के सिवा कुछ आता नही है हमको..!!

Sad Gussa Shayari in Hindi

Sad Gussa Shayari in Hindi

न प्यार करने वाला चाहिए,
न साथ देने वाला चाहिए,
हमें चाहिए ही नहीं ऐसा कोई रिश्ता,
जो हमे, हमसे ही अलग करदे.

बादलों का गरजना,
और बारिश का बरसना,
मुझे दो चीज़ों की याद दिलाता है,
तुम्हारा गुस्से में गरजने,
और मेरे अश्क़ो का बरसना.

बाते कुछ अछि करो,
करनी है तोह दिल में रहो,
यूँ जाने की बाते करते हो,
निकलो और रास्ता खाली करो.

मोहब्बत का सफर भी आसान नहीं होता,
हर परिन्दे के नसीब में असमान नहीं होता,
दफ़न हो जाते है अरमान दिलो में घुट घुट कर,
सबके नसीब में मिलान का पूरा अरमान नही होता.

कदर करना सिख लो,
क्युकी न ज़िंदगी मिलती दुबारा न लोग,
कभी कभी दावा नहीं लगती,
हाल पूछने से ही ठीक हो जाते है.

रिश्ते कभी नहीं बदलते,
पर रिश्ते निभाने वाले,
चंद लम्हे लगते है,
उनको बदलने में.

रात के अँधेरे में वह टूट जाती है,
अपनों की याद उसे बहुत आती है,
आँख में आंसू और दिल में
एक तमना सी रह जाती है.

Best Friend Se Gussa Shayar

Best Friend Se Gussa Shayar

तुझे गुस्सा दिलाना एक साजिश हैं मेरी
तेरा रूठ कर मुझपर यूँ हक़ जताना, अच्छा लगता हैं।

किस बात पर गुस्सा हो,
ये पूछने वाला अगर हो
तो मुस्कान कभी नहीं जाती।

आपको छोड़ना बहुत मुश्किल है,
आपके साथ संबंध तोड़ना बहुत मुश्किल है,
आप इस दिल को जानते हैं,
आपसे नाराज़ होना बहुत मुश्किल है।

आपके प्यार की कदर तो कोई अजनबी भी करेगा,
लेकिन केवल आपका अपना ही,
आपके गुस्से की कद्र करेगा।

यह प्यार वाला गुस्सा भी कितना अजीब होता है,
दोनों ऑनलाइन रहेंगे, एक दूसरे की डीपी भी देखेंगे,
लेकिन मैसेज नही करेंगे, और दोनों मैसेज के इंतेज़ार करेंगे।

Love Angry Shayari

Love Angry Shayari

हर बात पर न यूँ हमें ग़ुस्सा करें हुज़ूर,
कुछ बद-मिज़ाज लोग भी हैं, जऱा देखा करें हुज़ूर।

जब भी आप हमसे गुस्सा हो जायँगे,
तो हम आप को हमारे हांथों की बनी चाय पिलायेंगे,
और जब हम गुस्सा होंगे, तो आप हमें आइसक्रीम खिलायंगे।

किसी बुज़दिल की सूरत घर से बाहर निकलता है,
मेरा ग़ुस्सा किसी कमज़ोर के ऊपर निकलता है।

की तेरा गुस्सा मुझे बहुत पसंद है,
तभी तो तुझे गुस्सा दिलाती हूँ,
मैं तेरी होकर भी तेरी कमजोरी नहीं,
तेरी ताकत बनना चाहती हूँ।

कभी कभी मुस्कुराहटो से ज़्यादा, गुस्सा अच्छा लगता है।
क्योंकि मुस्कराहट तो सबके पास होती है,
पर गुस्सा वही इंसान करता है,
जो सबसे ज़्यादा प्यार करता है।

Many More Shayari:

Final Words

Hope you liked this huge collection of 500+ Gussa Shayari in Hindi do share with your friends, family and loved ones, please share your thoughts about गुस्सा शायरी इन हिंदी in the comments section below!

Leave a Comment